जानिए कैसे मात्र 21 वर्ष की छोटी सी उम्र में आयुषी ने SBI PO में पाई सफलता।

 

जानिए कैसे मात्र 21 वर्ष की छोटी सी उम्र में आयुषी ने SBI PO में पाई सफलता।

 

नमस्कार दोस्तों,

SBI PO की परीक्षा हर वर्ष होती है। इस परीक्षा में लगभग 2000 पदों के लिए हर वर्ष 9 लाख से भी ज्यादा छात्र सम्मिलित होते हैं। दोस्तों कई सारे अभ्यार्थियों की यह इच्छा होती है कि वह भी SBI PO की परीक्षा में सफल हो जाये। क्योंकि यह परीक्षा मुश्किल तो होती है परन्तु जो अभ्यार्थी इसमें सफल हो जाते हैं उन्हें बहुत ही अच्छी वेतन के साथ कई अन्य व्यवस्थाएं भी दी जाती है। साथ ही अच्छा खासा पावर भी मिलता है।

जिस उम्र में लोग सोचना शुरू करतें हैं की आगे क्या करना है कौन सी परीक्षा दी जाये ? उस उम्र में उत्तर प्रदेश की एक महिला अभ्यार्थी जिनका नाम आयुषी मिश्रा है, ने SBI PO(2019) जो की सबसे कठिन परीक्षाओं में शुमार है को पास किया। दोस्तों आयुषी मिश्रा ने मात्र 21 वर्ष की छोटी से उम्र में इस परीक्षा में शानदार सफलता हासिल की और एक बार फिर से यह सिद्ध हो गया कि मुश्किल कुछ भी नहीं।

दोस्तों आज हम आपको बताने वाले है कि आयुषी मिश्रा ने किस तरह से SBI PO की परीक्षा में सफलता हासिल की तथा उनकी कुछ अपनी बातें कि आपको किस तरह से इस परीक्षा के लिए तैयारी करनी चाहिए।

दोस्तों आयुषी मिश्रा उत्तर प्रदेश की राजधानी नवाबों का शहर जिसे कहा जाता है लखनऊ की रहने वाली हैं। आयुषी की माताजी एक गृहिणी हैं तथा पिताजी एक वकील हैं। आयुषी ने अपनी शिक्षा नेशनल पी.जी कॉलेज लखनऊ से पूरी की। आयुषी ने B.CA में अपनी पढाई की थी।

आयुषी की रुचि बैंकिंग की परीक्षाओं में थी। आयुषी ने RRB PO जैसी कई परीक्षाओं में सम्मिलित हुई परन्तु किसी कारणवश सफलता हासिल नहीं हुई। परन्तु अंततः SBI PO की परीक्षा में इन्हे एक शानदार सफलता मिली।

ज्यादातर अभ्यार्थी अपनी तैयारी इस आधार पर शुरू करते हैं कि पहले Pre की परीक्षा की तैयारी की जाये फिर Mains की किसी भी परीक्षा में सफलता के लिए यह अवधारणा अत्यंत मूर्खतापूर्ण हैं। आयुषी बतातीं हैं कि इन्होने अपनी तैयारी Pre और Mains दोनों के लिए की क्योंकि हमें मालूम है कि दोनों ही चरणों में होने वाली परीक्षाओं का पाठ्यक्रम लगभग एक ही है।

आयुषी बताती हैं कि उन्हें पहले की परीक्षाओं में असफलता हाथ लगी परन्तु हाथ में हाथ पकड़ कर बैठने के बजाय उन्होंने अगली परीक्षा के लिए प्रयास किया। दोस्तों अगर आपको असफलता हाथ लग रही है तो आपके लिए यह मौका है कि आप अपनी कमजोरियों को ढूंढ कर फिर से पूरी ऊर्जा के साथ फिर से तैयारी करें।

आयुषी बताती हैं कि गणित विषय में उनकी पकड़ बहुत अच्छी नहीं थी।अतः उन्होंने गणित विषय में ज्यादा समय दिया। दोस्तों हमेशा से अभ्यार्थियों के साथ होता आया है कि जिस विषय में वे अच्छे होते हैं उस विषय में वे ज्यादा समय देते हैं परन्तु ऐसा करना कतई सही नहीं है। तैयारी करने से पूर्व जब आप परीक्षा में पाठ्यक्रम देख रहे होते हैं उसी क्षण आपको यह निर्धारित करना होगा कि किस विषय में आपकी पकड़ अच्छी है तथा किस विषय में कमज़ोर और इसी अनुमान के आधार पर आपको अपनी तैयारी करनी चाहिए।

दोस्तों आयुषी बताती हैं कि जब लोगों को आपके बारे में पता चलेगा कि आप SBI PO परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। उसी समय से लोग आपको कई तरह की बात कहेंगे कि सरकारी नौकरी आज की तारीख में उतना आसान नहीं रह गया ! बैंकिंग की परीक्षाएं बहुत कठिन होतीं हैं आदि इत्यादि। दोस्तों ऐसे लोगों से आप जितनी अधिक दूरी बना सकतें है आपको बना लेनी चाहिए। दोस्तों इस परीक्षा की तैयारी के समय आपको पूरा ध्यान स्वयं पर केंद्रित करना है खुद को मोटिवेटेड रखना है।

दोस्तों आयुषी कहतीं हैं कि आप हर एक दिन के लिए अपनी योजना बनानी चाहिए। जैसे ही आप सुबह उठते हो आपको यह प्लान करना चाहिए कि आपको आज दिनभर क्या-क्या किस समय में करना है।

दोस्तों जैसा कि हमेशा से ही कहा जाता रहा है कि अगर आप किसी परीक्षा में सफलता हासिल करना चाहते हैं तो आपके लिए मॉक टेस्ट हीरे के समान सिद्ध होंगे। दोस्तों आयुषी कहती हैं की जब परीक्षा नज़दीक पहुंचने लगी थी वो हर दिन एक मॉक टेस्ट देती थीं। दोस्तों मॉक टेस्ट वास्तव में आपको अंदर से मजबूती देती है आपके अंदर आत्मविश्वास को मजबूत करती है अतः आपको मॉक टेस्ट देना ही चाहिए।

फिर दोस्तों आयुषी बतातीं हैं कि इस परीक्षा को पास करने का अर्थ मात्र पढाई नहीं है अगर ऐसा होता तो जो लोग चार-पांच वर्षों से इस परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं वो कभी ही पास हुए रहते। आयुषी बताती हैं कि इस परीक्षा में सफल होने का मतलब यह है कि कितने लम्बे समय तक आप खुद को मोटिवेटेड रख पाते हैं। आपके अंदर धैर्य तथा निरंतरता का होना बहुत ही आवश्यक है।

दोस्तों आयुषी बतातीं हैं कि यह परीक्षा आपसे समय ले सकती है परन्तु इसका यह अर्थ नहीं है कि आपको सफलता नहीं मिलेगी आपको बस धैर्य रखना है और अपनी कमज़ोरियों को पहचानते हुए निरंतर आगे बढ़ते रहना है।

दोस्तों आयुषी कहतीं हैं कि जब आप तैयारी कर रहे होते है तब तक के लिए आपको सारी चीज़ों से दूर हो जाना चाहिए जैसे किसकी शादी है,पड़ोस में क्या हो रहा है आदि। विशेषकर आपको सोशल मीडिया से दूर रहना ही चाहिए और अगर हैं भी तो समय सीमा होनी चाहिए।

दोस्तों आयुषी कहती हैं कि आपको असफलता से भयभीत हो कर पीछे नहीं हटना चाहिए बल्कि अपनी कमज़ोरियों को पहचानते हुए आगे बढ़ते रहना चाहिए।

फिर दोस्तों आयुषी बताती हैं कि जब उनका साक्षात्कार हो रहा था तो पैनल में बैठे लोग यह जानकार अचंभित थे कि यह मात्र 21 वर्ष की है। आयुषी कहती हैं की उनका साक्षात्कार मात्र 8-10 मिनट का रहा जिसमे बहुत ही आसान से सवालों को पुछा गया। आयुषी ने अपनी हॉबी में कविता लिखने में रुचि लिखा था। उनके पैनल के लोगों ने उनकी कविता भी सुनी। कुल मिलकर साक्षातकार उतना कठिन नहीं था जितना कठिन लोग इसे बताते हैं।

आयुषी बताती हैं कि जब इनका रिजल्ट निकला घर में पता चला तो इनके पिताजी की आँखों में आँसु थे। वह पल बहुत ही खुश कर देने वाला था।

***

किसी भी परीक्षा से संभंधित किसी भी प्रकार की समस्या को आप कमेंट कर पूछ सकते हैं।

ऐसे करें SBI PO की तैयारी मिलेगी सफलता-क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *